सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बात यही हर बार जिस्म मैं सुलगती रही...........dard shayari,

बात यही हर बार जिस्म मैं सुलगती रही


बात यही हर बार जिस्म मैं सुलगती रही
बात यही हर बार जिस्म मैं सुलगती रही


ज़िन्दगी अक्सर मेरा इम्तेहान लेती रही दुसरो को बनाया खुदकी पहचान जाती रही;
मंजिल तक पहुंच जाते हम भी एक दिन  पर राह पर चलते नजरे अक्सर भटकती रही;
हाथ पकड़ कर सबको पारर लगाते गए अपनी ही ज़िन्दगी मजधार मैं लटकती रही;
अपनों ने ही दी है ठोकर हर बार बात यही हर बार जिस्म मैं सुलगती रही;
बयान करते भी तो कैसे अपना हाल ऐ दिल होंठ सील गए थे साँसे अटकती रही;
आलम ऐ तन्हाई मैं कैसे वक़्त गुजरता जीत दिल तड़पता तड़पता रहा आँखे आंसू छलकती रही;



Tag
best dard shayari
2 line dard shayari
pyar ka dard shayari

dard shayari in english

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राह ऐ मंझिल.........2 line shayari,

    कदम डगमगा गये  राह ऐ  मंझिल पर चलते चलते  कदम डगमगा गये  राह ऐ  मंझिल पर चलते चलते । साथ किया टूटा हर राह पराये लगने लगे , Tag 2 line Shayari  in English 2 line Shayari  attitude 2 line Shayari  on life 2 line Shayari  romantic

मोह्हबत की शिद्धत से-------2 line shayari

                                                   मोह्हबत की शिद्धत से पर अछि तकदीर न पायी मोह्हबत की शिद्धत से पर अछि तकदीर न पायी, तेरे  साथ कोई गैर  साथ मेरी आलम इ तन्हाई, Tag 2 line Shayari  in English 2 line Shayari  attitude 2 line Shayari  on life 2 line Shayari  romantic

मोहोब्बत क्या है कहसे कहे, जालिम ज़माने को,,--------Hindi Shayari, sad Shayari,

मोहोब्बत क्या है कहसे  कहे, जालिम ज़माने को, यह  वो जज़्बा ए जूनून है ख़ुद को आजमाने को, नारी नाज़ुक है चंचल शोख अदाए  मासूमियत भारी, समझ जाओ  ज़ामने वालो मज़ूर न करो  टूट  जाने  को, आये हो जहांन मैं तो मुहब्बत जरूर कर लेना , बन जाना किसी का  हमसफ़र उसे  मंज़िल तक पाहुंचे को, जोडिया बनाइ जाती  है आसमनो मैं रब की रजा है , इश्क़ रब ने भी किया फ़िर कियों मारते पत्थर  दीवाने को, किसी हकदार  ऐ  दिल  के लिए सारी उम्र  गुज़ार लेगा जीत पुरी शिद्दत और  इमान से निबाहुंगा उसे  अपना बनाने  को, tag- hindi shayari  collection hindi shayari  sad hindi shayari  love hindi shayari  love sad