शिकवा नहीं तुजसे ---ghazal

शिकवा नहीं तुजसे



शिकवा नहीं तुजसे ये खेल लकीरो का;
ज़माना हुआ तेरा कोई नहीं फकीरो का;
करके इबादत तुझको पाना था सनम;
मिलना बिछड़ना है खेल तकदीरो का;
बैठे मयखाने मैं पिने की खुवाईश मैं;
हाल ऐ बेहाल करना खेल रक़ीबो का;
ज़ख्मो को सीते हुए उफ़ ना किया ;
दर्द मिला  जाल-साजियो के तीरो का;
 वार पे वार हुए हम बेखबर रह गए;
उसको चाहत का नहीं मोह था हीरो का;
कोण पूछता है हाल दीवानो का ;
यहाँ तो चर्चा हुआ मेह-ज़बीनो का;
ठोकरे ही पड़ती है इश्क़ मैं जीत;
नादान है जो गुलाम हसीनो का;



tag 
ghazal in hindi
ghazal hindi
ghazal
ghazal in urdu
ghazal urdu
ghazal new
ghazal bewafa
ghazal download
ghazal for love
ghazal for lover
ghazal on love
ghazal love
ghazal famous
ghazal on love in hindi
ghazal mohabbat







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां